Tuesday, 26 February 2013

सुपरफ़ूड सहजन

Sahjan Pod
सहजन का अंग्रेजी नाम Moringa है. हममें से अधिकांश लोगों ने सहजन के पेड़ (Moringa tree ) ज़रूर देखा होगा, लेकिन हम इसके महत्व को नहीं जानते हैं. यह फ़ूड नहीं सुपर फ़ूड है क्योंकि इसके प्रयोग कर 300 बीमारियों की रोकथाम की जा सकती है. सबसे पहले तो हम इसका कई भारतीय भाषाओँ में नाम जानते हैं
 
अंग्रेजी - Moringa,
लैटिन - Moringa oleifera 
संस्कृत - Surajana 
हिन्दी - सहजन
तमिल - Amukira
कन्नड़ - Keramaddinagaddi
तेलगु - Mulakkaya 
मलयालम - uringa. 
मराठी - Shevga 
गुजराती - Saragvo
बंगाली- Sojne Danta 
उड़िया- सजना या Sujuna
पंजाबी- Surajana 
नेपाली - Sajiwan या Swejan 
असमिया - Sojina 
सिंहली - urunga 
चीनी - ला म्यू 辣木)

सहजन का पेड़ दक्षिणी भारत, उत्तर भारत और उत्तरी अफ्रीका के लिए स्वदेशी पेड़ों की एक प्रजाति है. यह एक छोटी, पतला, पर्णपाती, बारहमासी पेड़ है जो लगभग 30 फूट लम्बाई तक बढ़ता है.
अफ्रीका की एक कंपनी Optima के मुताबिक अगर हम 25 ग्राम सहजन के पत्ते का सेवन नियमित करते हैं तो हमारे शरीर को निम्न चीजें प्राप्त हो जाती हैं.

1.
प्रोटीन: 42% 2. कैल्शियम: 125% 3. मैगनीशियम: 61% 4. पोटेशियम: 41%
5.
लौह: 71% 6. विटामिन ए: 272% 7. विटामिन सी: 22%
इसी से इसके अदभुत होने का पता चलता है.

सहजन के गुण :

1.
सहजन के पेड़ में anti aging nutrients पाए जाते हैं. इसमें कैंसर और tumor के विकास को रोकने की शक्ति होती है. इसमें पाया जाने वाला Zetin और अन्य दो अवयव बहुत ही प्रभावकारी होते हैं.

2.
सहजन के पत्ते, फूल, छाल, लकड़ी और जड़ों को दुनिया भर में सभी औषधीय और पोषण संबंधी उद्देश्यों के लिए व्यापक तौर पर इस्तेमाल किया जाता है.

3.
सहजन को कई देसी संस्कृतियों में एक चमत्कारी पेड़ की संज्ञा दी गई है. स्थानीय चिकित्सक और दंतकथाओं के मुतबिक इसमें 90 से ज्यादा पोषक तत्त्व होते हैं जो tumor के विकास को रोक देते हैं.
4. पिछले 40 वर्षों से, विश्व स्वास्थ्य संगठन WHO तीसरे दुनिया के देशों में कुपोषण और भूख की समस्या के हल हेतु सहजन को कम लागत वाले स्वास्थ्य वर्धक भोज्य पदार्थ के रूप में प्रयोग करने के विषय में अध्ययन कर रहा है
 
5. भारत के प्राकृतिक आयुर्वेदिक चिकित्सा में सहजन के पत्ते का उपयोग 300 से ज्यादा बिमारियों की रोकथाम के लिए किया जाता है. इसके पत्तों में संपूर्ण प्रोटीन पाया जाता है, जो कि वनस्पति जगत में दुर्लभ होते हैं.

6. यह शाकाहारियों के लिए एक अच्छा आहार माना जाता है. ये उनके लिए भी उपयोगी है जो अपने प्रोटीन की मात्रा में कोई समझौता किए बिना मांस और दुग्ध उत्पाद की मात्रा को सीमित करने की कोशिश कर रहे हैं.

औषधीय पौधे के रूप में सहजन का प्रयोग 
 
1. सहजन के पेड़ का दोनों तरह से प्रयोग किया जाता है - रोकथाम के लिए व उपचार के लिए. इसके छाल, रस, जड़ें, पत्तियां, बीज, तेल, और फूलों का प्रयोग कई देशों में पारंपरिक चिकित्सा में किया जाता है. पेट की शिकायतों, सर्दी, कैंसर, गैस्ट्रिक अल्सर, त्वचा रोग, रक्त शर्करा को कम करना, अस्थि घनत्व में वृद्धि, घबराहट की स्थिति, मधुमेह, थकान, घास बुखार, नपुंसकता, Edema, ऐंठन, बवासीर, सिर दर्द, गले में मसूड़ों के लिए इसका प्रयोग किया जाता है.

2. आँखें और मस्तिष्क, जिगर, पित्त, पाचन, श्वसन और प्रतिरक्षा प्रणाली, और blood cleanser और रक्त बिल्डर के रूप में भी इसका प्रयोग किया जाता है. एक पारंपरिक तरीके में पेट के कीड़े को निष्कासित करने के लिए पेट पर एक प्रलेप के रूप में पत्तियों का उपयोग किया गया था. पत्तियों का एक द्रव नेत्रश्लेष्मला शोथ के उपचार के लिए आंख धोने के लिए प्रयोग किया जाता है.

3. सहजन की पत्तियों के साथ तैयार सूप, तपेदिक, अस्थमा और ब्रोंकाइटिस की प्राकृतिक रोकथाम के लिए बेहद फायदेमंद है. सहजन की पत्तियों का काढ़े का सूप के रूप में किया जाता है. बेहतर स्वाद के लिए रोगी के विवेक के अनुसार नीबू का रस, काली मिर्च, और नमक इसमें मिलाया जा सकता है.

4.
ताजा सहजन के फूलों और गाय के दूध के साथ बनाया काढ़ा पुरुषों और महिलाओं दोनों के यौन कमजोरी और कार्यात्मक बांझपन के लिए एक उत्कृष्ट हर्बल टॉनिक है. इसके छाल का काढ़ा और शहद के प्रयोग से शीघ्र पतन की बीमारी ठीक हो जाती है और यौन दुर्बलता भी समाप्त हो जाती है.

5.
सहजन पाचन विकार के लिए एक प्राकृतिक औषधि है.

6.
हैजा, दस्त, पेचिश, पीलिया, और कोलाइटिस होने पर इसके पत्ते का ताजा रस, एक चम्मच शहद, और नारियल पानी मिलाकर दें, यह एक उत्कृष्ट हर्बल दवाई है.

7. Dysuria
और मूत्र में उच्च एसिड प्रतिशत होने पर ताजा सहजन की पत्ती का रस, ककड़ी या गाजर का रस के साथ मिश्रित कर देने से फ़ायदा मिलता है.

8.
सहजन के पत्ते का रस और नीबू के रस का मिश्रण मुहांसे, काले सिर और ऐज स्पॉट के इलाज में प्रयुक्त होता है. नियमित प्रयोग करने से त्वचा चमक उठता है.

9. सहजन के पत्ते का पाउडर कैंसर और हृदय रोग विरोधी एक शक्तिशाली एजेंट है. रक्तचाप के विनियमन, रक्त शर्करा के नियंत्रण, प्रतिरक्षा और पाचन प्रणाली में सुधार और मनोदशा को सुधारने के लिए भी इसका प्रयोग किया जाता है. इसका प्रयोग पेट में अल्सर के इलाज के लिए किया जा सकता है. यह पेट की दीवार के अस्तर की मरम्मत करने में सक्षम है. यह शरीर की ऊर्जा का स्तर बढ़ा देता है

इसके अन्य बहुत सारे प्रयोग होते है जिसकी चर्चा हम दूसरे लेख में करेंगे.

नोट : अगर यह लेख आपको अच्छा लगा तो इसे अपने मित्रों के साथ शेयर करें और अपना सुझाव हमें ज़रूर दें.